अगवानी पृ-18

ज्ञानकोश से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज


शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण

संस्थान में विभिन्न स्तरों के अनेक शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण पाठ्यक्रमों का संचालन किया जाता है। इन पाठ्यक्रमों को मुख्यत: निम्न वर्गों में विभाजित किया जा सकता है-

प्रशिक्षणपरक

हिंदी शिक्षण निष्णात, हिंदी शिक्षण पारंगत, हिंदी शिक्षण प्रवीण, त्रिवर्षीय हिंदी शिक्षण डिप्लोमा (नागालैंड), द्विवर्षीय हिंदी शिक्षण डिप्लोमा (मिज़ोरम) एवं विशेष गहन पाठ्यक्रम।

विदेशी शिक्षणपरक

हिंदी भाषा दक्षता प्रमाण-पत्र, हिंदी भाषा दक्षता डिप्लोमा, हिंदी भाषा दक्षता उच्च डिप्लोमा एवं स्नातकोत्तर हिंदी डिप्लोमा।

सांध्यकालीन परास्नातकोत्तर डिप्लोमा पाठ्यक्रम

अनुवाद सिद्धांत एवं व्यवहार डिप्लोमा, जनसंचार एवं पत्रकारिता डिप्लोमा, अनुप्रयुक्त हिंदी भाषाविज्ञान डिप्लोमा एवं हिंदी रोजगार परियोजना।

नवीकरण

उच्चनवीकरण पाठ्यक्रम, शिक्षक नवीकरण पाठ्यक्रम, प्रचारक नवीकरण पाठ्यक्रम, भाषा संचेतना विकास शिविर पाठ्यक्रम एवं संवर्धनात्मक पाठ्यक्रम, कौशलपरक पाठ्यक्रम, प्रयोजनमूलक हिंदी नवीकरण पाठ्यक्रम एवं दक्षतापरक नवीकरण कार्यक्रम।

अनुसंधान

हिंदी शिक्षण की अधुनातन प्रविधियों का विकास, हिंदी भाषा और साहित्य में मूलभूत और अनुप्रयुक्त अनुसंधान, हिंदी भाषा और अन्य भारतीय भाषाओं का व्यतिरेकी और तुलनात्मक अध्ययन, प्रयोजनमूलक हिंदी संबंधी शोध कार्य, हिंदी का समाज भाषावैज्ञानिक सर्वेक्षण और अध्ययन एवं हिंदी भाषा के आधुनिकीकरण और भाषा-प्रौद्योगिकी के विकास के उद्देश्य से अनुसंधान।

शिक्षण सामग्री और कोश निर्माण

विदेशी भाषा के रूप में हिंदी शिक्षण पाठ्यक्रम निर्माण, विश्वविद्यालय स्तरीय प्रयोजनमूलक हिंदी पाठ्यक्रम सामगी का निर्माण, हिंदीतर भाषी राज्यों, जनजाति क्षेत्रों के लिए हिंदी शिक्षण संबंधी पाठ्यपुस्तक सामग्री का निर्माण, बैंकिंग, प्रशासन आदि प्रयोजनमूलक हिंदी पाठ्यक्रमों के लिए पाठ्य सामग्री का निर्माण, कम्प्यूटर साधित हिंदी भाषा शिक्षण संबंधी पाठ्य सामग्री का निर्माण, दृश्य-श्रव्य माध्यमों से हिंदी शिक्षण संबंधी पाठ्य सामग्री का निर्माण, हिंदी तथा अन्य भारतीय भाषाओं के द्विभाषी कोशों का निर्माण, हिंदी खासी, हिंदी गारो व्याकरण निर्माण एवं मिजोरम के छात्रों के लिए हिंदी।

Agwani-page-18.jpg
नवीकरण पाठ्यक्रम, अमृतसर, 2010


पीछे जाएँ
17
अगवानी स्वर्ण जयंती की
18
केंद्रीय हिंदी संस्थान
19
आगे जाएँ


अगवानी अनुक्रम
क्रमांक लेख का नाम पृष्ठ संख्या
1. अगवानी आवरण पृष्ठ 1
2. अगवानी स्वर्ण जयंती की 3
3. श्री कपिल सिब्बल संदेश 4
4. एक कविता 5
5. शुभकामना प्रो. अशोक चक्रधर 6
6. संपादकीय प्रो. के. बिजय कुमार 7
7. केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल : एक परिचय 8
8. मुख्यालय एवं केंद्र 10
9. मुख्यालय एवं केन्द्रों की गतिविधियां 14
10. शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण 18
11. पुरस्कार 19
12. प्रकाशन 20
13. अंतरराष्ट्रीय मानकहिंदी पाठ्यक्रम 21
14. विदेशी भाषा के रूप में हिंदी 22
15. हिंदी कॉर्पोरा परियोजना 24
16. भाषा-साहित्य सीडी निर्माण परियोजना 26
17. हिंदी लोक शब्दकोश 27
18. भव्य झांकियाँ 28
19. संस्थान की गतिविधियाँ 34
20. उद्धोधन 36
21. ज्योतित हो जन-जन का जीवन 37


वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता