अगवानी पृ-6

ज्ञानकोश से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

शुभकामना

प्रो. अशोक चक्रधर

प्रो. अशोक चक्रधर
उपाध्यक्ष
केन्द्रीय हिन्दी शिक्षण मंडल

अच्छी संस्थाएँ सतत क्रियाशील रहती हैं। अचानक पता चलता है कि लीजिए काम करते करते पचास साल हो गए। केन्द्रीय हिन्दी संस्थान की स्वर्ण जयंती की अगवानी के अवसर पर यह प्रकाशन एक स्वागतघोष की तरह है।

मंडल के अध्यक्ष श्री कपिल सिब्बल शासन-प्रशासन की लम्बी अनुभव प्रक्रिया में संलग्न रहने के बावजूद रचनात्मक गतिविधियों के लिए समय निकालते रहते हैं। मौका मिलते ही काव्य लेखन करते हैं। नई सूचना-प्रौद्योगिकी के प्रति उनके मन में बहुत खुली सोच है और वे चाहते हैं कि हिन्दी के प्रचार-प्रचार के लिए केन्द्रीय हिन्दी संस्थान में नए सॉफ्टवेयर्स का प्रयोग करते हुए न केवल अपनी वेबसाइट को सुदृढ़ और द्विभाषिक बनाया जाए बल्कि हिन्दी शिक्षण के लिए नए प्रोग्राम और पैकेज तैयार किए जाएं। मैं आशा करता हूँ कि निकट भविष्य में हम कपिल जी के सपनों को साकार कर सकेंगे।

'अंतरराष्ट्रीय हिन्दी शिक्षण पाठ्यक्रम' के उद्घाटन के अवसर पर केन्द्रीय हिन्दी संस्थान के निदेशक प्रो. के. बिजय कुमार ने संस्थान की अब तक की गतिविधियों पर प्रकाश डाला था और मैंने भी एक पावर-पाइंट प्रस्तुति के माध्यम से भविष्य की योजनाओं की एक रूपरेखा प्रस्तुत की थी। 'अगवानी' में आपको इन दोनों से रू-ब-रू होने का मौक़ा मिलेगा।

'अगवानी' के प्रकाशन पर मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ


अशोक चक्रधर


पीछे जाएँ
5
अगवानी स्वर्ण जयंती की
6
केंद्रीय हिंदी संस्थान
7
आगे जाएँ


अगवानी अनुक्रम
क्रमांक लेख का नाम पृष्ठ संख्या
1. अगवानी आवरण पृष्ठ 1
2. अगवानी स्वर्ण जयंती की 3
3. श्री कपिल सिब्बल संदेश 4
4. एक कविता 5
5. शुभकामना प्रो. अशोक चक्रधर 6
6. संपादकीय प्रो. के. बिजय कुमार 7
7. केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल : एक परिचय 8
8. मुख्यालय एवं केंद्र 10
9. मुख्यालय एवं केन्द्रों की गतिविधियां 14
10. शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण 18
11. पुरस्कार 19
12. प्रकाशन 20
13. अंतरराष्ट्रीय मानकहिंदी पाठ्यक्रम 21
14. विदेशी भाषा के रूप में हिंदी 22
15. हिंदी कॉर्पोरा परियोजना 24
16. भाषा-साहित्य सीडी निर्माण परियोजना 26
17. हिंदी लोक शब्दकोश 27
18. भव्य झांकियाँ 28
19. संस्थान की गतिविधियाँ 34
20. उद्धोधन 36
21. ज्योतित हो जन-जन का जीवन 37


वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता