एक विहंगावलोकन पृ-75

ज्ञानकोश से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
Khs-logo-001.png
गुवाहटी केंद्र

स्थापना

गुवाहटी केंद्र 1976 में मूलत: शिलांग में स्थापित हुआ, जहाँ से 1979 में इसे गुवाहाटी में स्थानांतरित किया गया। वर्तमान में असम, अरूणाचल प्रदेश और सिक्किम में हिंदी शिक्षण-प्रशिक्षण के क्षेत्र में अनेक प्रकार की गतिविधियाँ इस केंद्र द्वारा आयोजित की जाती हैं, जिसके अंतर्गत पूर्वोत्तर भारत के राज्यों के मिडिल तथा हाईस्कूलों में सेवारत हिंदी शिक्षकों के लिए लघु अवधीय नवीकरण प्रशिक्षण सामग्री निर्माण आदि का कार्य केंद्र द्वारा किया जाता है। साथ ही इस केंद्र द्वारा प्रयोजनमूलक पाठ्यक्रमों जैसे- रेलवे विभाग, बैंक आदि केंद्र सरकार की संस्थाओं के कर्मचारियों के लिए पाठ्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

अब तक पूर्णकालिक क्षेत्रीय निदेशक
1. डॉ. न. वी. राजगोपालन प्रोफेसर 05.07.1976 से 22.07.1980
2. डॉ. जयकृष्ण विद्यालंकार रीडर 23.07.1980 से 06.09.1980
3. डॉ. विजय राघव रेड्डी रीडर 07.09.1980 से 09.03.1983
4. डॉ. अमर बहादुर सिंह प्रोफेसर 02.03.1983 से 21.07.1986
5. डॉ. टी.के. नारायण पिल्लै रीडर 22.07.1986 से 06.04.1987
6. डॉ. सी.ई. जीनी रीडर 07.04.1984 से 30.04.1988
Vihangavalokan page 75.jpg


पीछे जाएँ
74
केंद्रीय हिंदी संस्थान
75
स्वर्ण जयंती 2011
76
आगे जाएँ


विहंगावलोकन अनुक्रम
क्रमांक लेख का नाम पृष्ठ संख्या
1. आमुख 3
2. अनुक्रमणिका 4
3. केंद्रीय हिंदी संस्थान के पचास वर्ष 7
4. संस्थान एक परिचय 17
5. नये युग में प्रवेश 25
6. शिक्षण कार्यक्रम 29
6. शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम 34
7. शोध और सामग्री निर्माण 38
8. संस्थान प्रकाशन 41
9. प्रसार कार्यक्रम 44
10. हिंदी की अंतर्राष्ट्रीय भूमिका 49
11. आधारिक संरचनाएँ 53
12. स्वर्ण जयंती वर्ष : कुछ नए संकल्प 56
13. संस्थान के क्षेत्रीय केंद्र दिल्ली 61
14. हैदराबाद 70
15. गुवाहाटी 75
16. शिलांग 78
17. दीमापुर 82
18. मैसूर 84
19. भुवनेश्वर 87
20. अहमदाबाद 90
वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता