एक विहंगावलोकन पृ-76

ज्ञानकोश से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज
Khs-logo-001.png
7. डॉ. विद्याशंकर शुक्ल प्रवक्ता 31.04.1988 से 01.01.1990
8. डॉ. रामवीर सिंह प्रोफेसर 02.01.1990 से 21.08.1991
9. डॉ. पीतांबर रीडर 22.08.1991 से 03.06.1993
10. डॉ. चतुर्भुज सहाय प्रोफेसर 04.06.1993 से 15.09.1994
11. डॉ. अश्वनी कुमार श्रीवास्तव रीडर 16.09.1994 से 30.09.1996
12. डॉ. रश्मि दीक्षित रीडर 01.10.1996 से 26.05.1998
13. डॉ. हेमराज मीणा रीडर 27.05.1998 से 20.10.1999
14. डॉ. रवि प्रकाश गुप्त प्रोफेसर 21.10.1999 से 04.10.2000
15. डॉ. हेमराज मीणा रीडर 05.10.2000 से 13.07.2001
16. डॉ. सुशीला थॉमस रीडर 14.07.2001 से 15.07.2002
17. डॉ. शकुंतला अम्मा प्रोफेसर 16.07.2002 से 18.07.2003
18. डॉ. रवि प्रकाश गुप्त प्रोफेसर 20.08.2003 से 22.08.2008
19. डॉ. हरिशंकर प्रोफेसर 24.12.2008 से


Vihangavalokan page 76.jpg

शैक्षिक कार्यक्रम

केंद्र द्वारा नवीकरण पाठ्यक्रम, उच्च नवीकरण पाठ्यक्रम, कार्यशालाएँ, शैक्षिक सामग्री निर्माण, कार्यशालाएँ एवं इन राज्यों में हिंदी प्रचार-प्रसार से संबंधित विचार गोष्ठियों एवं संगोष्ठियों का आयोजन किया जाता है। इसके अतिरिक्त केंद्र द्वारा 2005-2006 से नियमित पाठ्यक्रमों के रूप में 'हिंदी शिक्षण प्रवीण' एवं 'स्नातकोत्तर अनुवाद सिद्धांत एवं व्यवहार डिप्लोमा' भी आरंभ किए गए थे।

नवीकरण पाठ्यक्रम-वर्ष 1976 से दिसंबर, 2010 तक 188 नवीकरण पाठ्यक्रम आयोजित हुए, जिसमें कुल 5585 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

हिंदी शिक्षण प्रवीण- सत्र 2007-2009 तक कुल 49 छात्रों ने प्रवेश लिया।

स्नातकोत्तर अनुवाद सिद्धांत एवं व्यवहार डिप्लोमा-सत्र 2007-2009 तक कुल 50 छात्रों ने प्रवेश लिया।

प्रसार कार्यक्रम

(1) राष्ट्रीय संगोष्ठी - दि. 17.05.2007 को 'विश्वमंच पर हिंदी' एवं दि. 26.03.2010 से 27.03.2010 तक पूर्वोत्तर में 'हिंदी अधिगम एवं शिक्षण की चुनौतियाँ' विषय पर राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया।

(2) कार्यशाला - 'कर्मचारी चयन आयोग' के कर्मचारियों के लिए दि. 25.01.2002 से 31.01.2002 तक एवं 'केंद्रीय रेशम बोर्ड' के अधिकारियों के लिए दि. 10.07.2002 से 12.07.2002 तक कार्यशालाओं का आयोजिन किया गया।

(3) प्रसार व्याख्यान माला - समय-समय पर प्रसार व्याख्यानमालाओं का आयोजन किया गया, जिसमें 10.08.2009 को 'अरुणाचल में हिंदी अध्यापन की समस्याएँ और समाधान', 31.08.2009 को 'हिंदी एवं असमी लिपि व्यवस्था एवं वाक्य संरचना', 27.11.2009 को 'अरुणाचल प्रदेश में हिंदी शिक्षण की समस्याएँ और समाधान', 11.02.2010 को 'बहुलवादी भारत और हिंदी', 18.02.2010 को 'हिंदी का भक्ति काव्य : प्रासंगिकता' विषय पर विद्वानों ने अपने विचार व्यक्त किए।


पीछे जाएँ
75
केंद्रीय हिंदी संस्थान
76
स्वर्ण जयंती 2011
77
आगे जाएँ


विहंगावलोकन अनुक्रम
क्रमांक लेख का नाम पृष्ठ संख्या
1. आमुख 3
2. अनुक्रमणिका 4
3. केंद्रीय हिंदी संस्थान के पचास वर्ष 7
4. संस्थान एक परिचय 17
5. नये युग में प्रवेश 25
6. शिक्षण कार्यक्रम 29
6. शिक्षण प्रशिक्षण कार्यक्रम 34
7. शोध और सामग्री निर्माण 38
8. संस्थान प्रकाशन 41
9. प्रसार कार्यक्रम 44
10. हिंदी की अंतर्राष्ट्रीय भूमिका 49
11. आधारिक संरचनाएँ 53
12. स्वर्ण जयंती वर्ष : कुछ नए संकल्प 56
13. संस्थान के क्षेत्रीय केंद्र दिल्ली 61
14. हैदराबाद 70
15. गुवाहाटी 75
16. शिलांग 78
17. दीमापुर 82
18. मैसूर 84
19. भुवनेश्वर 87
20. अहमदाबाद 90
वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता