गवेषणा 2011 पृ-175

ज्ञानकोश से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज

इस अंक के लेखक


रवि प्रकाश गुप्त केन्द्रीय हिंदी संस्थान, दिल्ली गेट, दिल्ली
उर्मिल शर्मा' अध्यक्ष, हिंदी विभाग, शेमरॉक इंटरनेशनल स्कूल, दयालबाग, फरीदाबाद
जसपाली चौहान एफ-13, मानसरोवर गार्डन, नई दिल्ली-15
शेफाली चतुर्वेदी एसोसिएट प्रोफेसर, हिंदी विभाग, 1/188, दिल्ली गेट, आगरा
ओम विकास सी-15 तरंग अपार्टमेंटस, आई.पी एक्सटेंशन, मदर डेयरी रोड, दिल्ली- 110092
श्रवण कुमार मीणा अध्यक्ष, हिंदी विभाग, जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय, जोधपुर (राजस्थान)
कृष्ण कुमार गोस्वामी 1764, औट्रम लाइन्स, मुखर्जी नगर, दिल्ली-110009
सुवास कुमार प्रोफेसर, हिंदी विभाग, हैदराबाद विश्विद्यालय, सेंट्रल यूनिवर्सिटी कैम्पस डाक, हैदराबाद-500046 (आंध्र प्रदेश)
सतीश शर्मा 'जाफरावादी' 'प्रेमसदन' जाफरावाद, जेवर जनपद-गौतमबुद्घ नगर-203135 (उ. प्र.)
गोविन्द स्वरूप गुप्त प्राध्यापक, भाषाविज्ञान विभाग, लखनऊ विश्वविद्यालय
दुर्गेश नंदिनी हिंदी विभाग, उस्मानिया यूनिवर्सिटी, हैदराबाद-500007 (आंध्र प्रदेश)
Jitendra Kumar Singh Lecturer/RP LDC-IL Central Institute of Indian Languages,

Department of Secondary and Higher Education, Manas Gangotri, Mysore-6, Karnataka

व्यासमणि त्रिपाठी हिंदी विभाग, जवाहरलाल नेहरू राजकीय महाविद्यालय, पोर्ट ब्लेयर, अंडमान-744104
मनोज पांडेय सहायक प्रोफेसर, स्नातकोत्तर हिंदी विभाग, रा.तु.म. नागपुर विश्वविद्यालय, नागपुर-33 (महाराष्ट्र)
L. Suneetha Bai Vrindavaan, Kakkanad P.O.-Kochi-682030 (Kerala)
सुमेधा शुक्ला D/o आर.एल. शुक्ला, 3/72, सेक्टर-जी, टेढ़ी पुलिया चौराहा के पास, लखनऊ
लालसा लाल तरंग 464, राधिका निवास, भोलाधाट मार्ग, एलवल, आजमगढ-276001 (उ.प्र.)
सुनीता रानी घोष एसोसिएट प्रोफेसर, हिंदी विभाग, आगरा कालेज, आगरा, आगरा (उ.प्र.)
लक्ष्मीनारायण शर्मा 31/53-बी/2 शांति सदन, नगला छिद्दा (लंगड़े की चौकी के पास), आगरा
प्रियंका सिंह जूनियर रिसोर्स पर्सन (हिंदी), एल.डी.सी.आई.एल., भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर, कर्नाटक
आई.एन. चंद्रशेखर रेड्डी हिंदी विभाग, श्री वेंकटेश्वर विश्वविद्यालय, तिरूपति-517502
प्रकाश साव अनुसंधान एवं भाषा विकास विभाग, केद्रीय हिंदी संस्थान आगरा-282005



पीछे जाएँ
174
175/176
177
आगे जाएँ


गवेषणा 2011 अनुक्रम
लेख का नाम लेखक पृष्ठ संख्या
आवरण पृष्ठ आवरण
पूर्वपीठिका अशोक चक्रधर 5
यह अंक के. बिजय कुमार 9
संपादकीय महेन्द्र सिंह राणा 11
प्रयोजनमूलक हिंदी के विविध रूप
प्रयोजनमूलक हिंदी: स्वरूप और संरचना रवि प्रकाश गुप्त 15
प्रयोजनमूलक हिंदी: विकास के कारण उर्मिल शर्मा 20
प्रयोजनमूलक हिंदी: वैज्ञानिक और तकनीकी भाषा रूप जसपाली चौहान 27
हिंदी भाषा और प्रौद्योगिकी: विविध संभावनाएं एवं चुनौतियां शेफाली चतुर्वेदी 40
व्यापक प्रौद्योगिकी और प्रयोजनमूलक हिंदी ओम विकास 49
हिंदी भाषा, प्रयोजनमूलक हिंदी और बाजार श्रवण कुमार मीणा 63
हिंदी: वाणिज्य और व्यापार की भाषा कृष्ण कुमार गोस्वामी 68
हिंदी मीडिया की भाषिकी सुवास कुमार 72
पत्र-पत्रिकाओं द्वारा हिंदी भाषा का स्वरूप परिवर्तन सतीश शर्मा ‘जाफरावादी’ 80
जनसंचार माध्यमों के विज्ञापन में हिंदी गोविन्द स्वरूप गुप्त 86
मीडिया की हिंदी दुर्गेश नंदिनी 89
संपर्क भाषा के रूप में हिंदी की भूमिका जितेन्द्र कुमार सिंह 92
हिंदी: संपर्क भाषा की एक जीवंत परम्परा व्यासमणि त्रिपाठी 99
वैश्वीकरण के दौर में हिंदी का स्वरूप मनोज पांडेय 104
सांस्कृतिक अस्मिता के संदर्भ में हिंदी के विविध रूप एल.सुनीता राय 107
हिंदी भाषी समाज में कोड परिवर्तन का रूप सुमेधा शुक्ला 116
भाषा और जन-विसर्जन लालसा लाल तरंग 121
हिंदी भाषा: वर्तमान परिदृश्य सुनीता रानी घोष 129
व्याकरण-विचार
विद्रूपित होती हिंदी वर्तनी लक्ष्मी नारायण शर्मा 137
स्थाननाम और संबंधित शास्त्र प्रियंका सिंह 151
साहित्य-चिंतन
काव्य-भाषा में अस्मिता की खोज आई.एन. चंद्रशेखर रेड्डी 158
साहित का स्वराज बनाम विचारों का उपनिवेश प्रकाश साव 167
इस अंक के रचनाकारों के पते 175
सदस्यता फार्म 177
अंतिम पृष्ठ अंतिम पृष्ठ
वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता