अगवानी पृ-21

ज्ञानकोश से
EditorG (वार्ता | योगदान)ने किया हुवा 15:17, 23 अगस्त 2012का अवतरण

(अंतर) ← पुराना संस्करण | वर्तमान संशोधन (अंतर) | नया संशोधन → (अंतर)
यहां जाएं: भ्रमण, खोज


अंतरराष्ट्रीय मानकहिंदी पाठ्यक्रम
Agwani-page-21.jpg

वर्ष 2002-03 के दौरान विदेशी हिंदी शिक्षण विभाग को एक महत्त्वपूर्ण परियोजना का दायित्व सौंपा गया। यह परियोजना अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विदेशी भाषा के रूप हिंदी शिक्षण के मानकीकरण से जुड़ी हुई हैं। इस परियोजना की पृष्ठ्भूमि में विद्वानों का यह विचार रहा है कि वर्तमानत: हिंदी के जो विविध पाठ्यक्रम विश्व के विभिन्न देशों के विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं विभिन्न संस्थाओं में चल रहे हैं उनमें एकरूपता लाना आवश्यक है एवं मानक पाठ्यक्रम का निर्माण भी आवश्यक है।

परामर्शदात्री समिति :

संरक्षक, उपाध्यक्ष, केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा, अध्यक्ष : निदेशक, केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा। सदस्य : प्रो. वी.रा.जगन्नाथन (इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय), प्रो. माणिक गोविंद चतुर्वेदी (पूर्व प्रो. केंद्रीय हिंदी संस्थान), प्रो. (श्रीमती) अन्विता अब्बी (जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय), प्रो. रमेश चंद्र शर्मा (दिल्ली विश्वविद्यालय), डॉ. (श्रीमती) शोभा सत्यनाथ (दिल्ली विश्वविद्यालय), डॉ. विमलेश कांति वर्मा (दिल्ली विश्वविद्यालय), प्रो. सुनील कुमार श्रीवास्तव (उपसचिव हिंदी विदेश मंत्रालय), प्रो. कृष्ण कुमार गोस्वामी (केंद्रीय हिंदी संस्थान, दिल्ली केंद्र), प्रो. श्रीश्चंद्र जैसवाल (केंद्रीय हिंदी संस्थान, दिल्ली केंद्र), प्रो. (श्रीमती) चंद्रप्रभा (केंद्रीय हिंदी संस्थान, दिल्ली केंद्र), प्रो. अश्वनी कुमार श्रीवास्तव (केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा), प्रो. (श्रीमती) वशिनी शर्मा (केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा)

केंद्रिक पाठ्यक्रम निर्माण समिति :

प्रो. वी.रा.जगन्नाथन (अध्यक्ष), प्रो. (श्रीमती) वशिनी शर्मा (संयोजिका), प्रो. कृष्ण कुमार गोस्वामी, डॉ. विमलेश कांति वर्मा, प्रो. (श्रीमती) चंद्रप्रभा, प्रो. अश्वनी कुमार श्रीवास्तव (सभी सदस्य)।

उद्देश्य :

  • विश्व भर में एक समान हिंदी पाठ्यक्रमों का निर्माण।
  • क्रेडिट पद्धति हेतु पाठ्यक्रमों में समतुल्यता लाना।
  • एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय में छात्र के जाने तथा क्रेडिट अंतरण के बारे में सुझाव देना।
  • अध्ययन संबंधी कार्यक्रम तैयार करना जिन्हें सभी विश्वविद्यालय अपनी स्थानीय आवश्यकताओं के अनुरूप अपना सकें। विश्वविद्यालयों को इतनी छूट देना कि वे एक व्यापक रूपरेखा के अंतर्गत अपने लिए विशिष्ट पाठ्यक्रम बना सकें।
  • परियोजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए शिक्षण सामग्री निर्माण विभाग द्वारा शिक्षण प्रशिक्षण संबंधी कार्य योजना बनाना।


पीछे जाएँ
20
अगवानी स्वर्ण जयंती की
21
केंद्रीय हिंदी संस्थान
22
आगे जाएँ


अगवानी अनुक्रम
क्रमांक लेख का नाम पृष्ठ संख्या
1. अगवानी आवरण पृष्ठ 1
2. अगवानी स्वर्ण जयंती की 3
3. श्री कपिल सिब्बल संदेश 4
4. एक कविता 5
5. शुभकामना प्रो. अशोक चक्रधर 6
6. संपादकीय प्रो. के. बिजय कुमार 7
7. केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल : एक परिचय 8
8. मुख्यालय एवं केंद्र 10
9. मुख्यालय एवं केन्द्रों की गतिविधियां 14
10. शिक्षण-प्रशिक्षण एवं नवीकरण 18
11. पुरस्कार 19
12. प्रकाशन 20
13. अंतरराष्ट्रीय मानकहिंदी पाठ्यक्रम 21
14. विदेशी भाषा के रूप में हिंदी 22
15. हिंदी कॉर्पोरा परियोजना 24
16. भाषा-साहित्य सीडी निर्माण परियोजना 26
17. हिंदी लोक शब्दकोश 27
18. भव्य झांकियाँ 28
19. संस्थान की गतिविधियाँ 34
20. उद्धोधन 36
21. ज्योतित हो जन-जन का जीवन 37


वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता