गवेषणा 2011 पृ-88

ज्ञानकोश से
यहां जाएं: भ्रमण, खोज


विज्ञापन, जनमत और विश्वास, ये तीनों तत्व एक दूसरे के पूरक हैं। भाषा एक माध्यम है –अभिव्यक्ति का। हिंन्दी भाषी साक्षर-समाज की संख्या की तुलना में अनेक पत्र-पत्रिकाओं की खपत बहुत नगण्य है। यह विचारणीय प्रश्न है। एक बात यह भी है कि रेडियो और दूरदर्शन ने समाचार प्रसारण की गति तीव्रतम कर दी है। अत: दैनिक मासिक, सामूहिक पत्र-पत्रिकाओं के पाठक कम होते जा रहे हैं। अब आंचलिक और सस्ते अखबार अधिक चल रहे हैं। हिन्दी के पाठक अब ग्रामाचंल में बढ़ रहे हैं। वे केवल सनसनीखेज खबरें नहीं चाहते बल्कि अपने ज्ञान-विज्ञान, जिज्ञासा तथा आवश्यकता की ओर से अधिक उन्मुख होते हैं। नए-नए विषयों और विज्ञापनों देने वाले पत्र लोगों को अधिक आकर्षित करते हैं। विज्ञापनों में विवाह-विज्ञापन बड़े पैमाने पर पढ़े जाते हैं या फिर रोजगार विज्ञापन। देखा यह गया है कि सरकारी-प्रचार के विज्ञापनों पर से साधारण पाठकों की भी आस्था और विश्वास कम होता जा रहा है। सत्तारूढ़ एक पार्टी विज्ञापन और आत्म समर्थनार्थ समाचारों में पाठक की आस्था कम होती जाती है। भाषा के स्तर पर अधिकांश विज्ञापनों की भाषा अंग्रेजी से अनुवाद मात्र की यांत्रिक और प्राणहीन भाषा है। उसमें पिष्टपेषण और चर्चित-चर्वण अधिक है।

रंग-मंच के माध्यम से हम प्रचार-प्रसार और विज्ञापन की बात करते हैं, किंतु रंगमंच के लिए सर्वमान्य भाषा की तलाश में अच्छे नाट्य-निर्देशक अलग-अलग बातें करते हैं। कुछ लोग कहते हैं कि भाषा अभी बनी नहीं है और कुछ लोग भाषा को गौण मानते हैं। विज्ञापन की दृष्टि से फिल्म एक अच्छी भूमिका निभा सकती है। किंतु हिन्दी साहित्यकार फिल्म जगत द्वारा उपेक्षित है। हिन्दी भाषा-भाषी क्षेत्र में कहीं फिल्म निर्माण स्टूडियो नहीं है। फिल्मी विज्ञापन में, बाजार में चलते सिक्के की तरह भाषा का व्यवसायीकरण ही होता है और कुछ नहीं। वास्तव में संचार माध्यमों में विज्ञापन और उसकी भाषा का सर्वसाधारण तक पहुँचाने के लिए उसके सरलीकरण एवं लोक भाषा-शैली को अपनाने की आवश्यकता है। साथ ही सरकारी और गैर सरकारी संचार माध्यमों का संचालन, संपादन, संप्रसारण और संप्रेषण में भाषावैज्ञानिकों का अधिकाधिक सहयोग लेना उपेक्षित है। तभी संचार-माध्यमों के द्वारा प्रचार-प्रसार और विज्ञापन आदि में हिन्दी की स्थिति सृदढ़ होगी।


पीछे जाएँ
87
88
89
आगे जाएँ


गवेषणा 2011 अनुक्रम
लेख का नाम लेखक पृष्ठ संख्या
आवरण पृष्ठ आवरण
पूर्वपीठिका अशोक चक्रधर 5
यह अंक के. बिजय कुमार 9
संपादकीय महेन्द्र सिंह राणा 11
प्रयोजनमूलक हिंदी के विविध रूप
प्रयोजनमूलक हिंदी: स्वरूप और संरचना रवि प्रकाश गुप्त 15
प्रयोजनमूलक हिंदी: विकास के कारण उर्मिल शर्मा 20
प्रयोजनमूलक हिंदी: वैज्ञानिक और तकनीकी भाषा रूप जसपाली चौहान 27
हिंदी भाषा और प्रौद्योगिकी: विविध संभावनाएं एवं चुनौतियां शेफाली चतुर्वेदी 40
व्यापक प्रौद्योगिकी और प्रयोजनमूलक हिंदी ओम विकास 49
हिंदी भाषा, प्रयोजनमूलक हिंदी और बाजार श्रवण कुमार मीणा 63
हिंदी: वाणिज्य और व्यापार की भाषा कृष्ण कुमार गोस्वामी 68
हिंदी मीडिया की भाषिकी सुवास कुमार 72
पत्र-पत्रिकाओं द्वारा हिंदी भाषा का स्वरूप परिवर्तन सतीश शर्मा ‘जाफरावादी’ 80
जनसंचार माध्यमों के विज्ञापन में हिंदी गोविन्द स्वरूप गुप्त 86
मीडिया की हिंदी दुर्गेश नंदिनी 89
संपर्क भाषा के रूप में हिंदी की भूमिका जितेन्द्र कुमार सिंह 92
हिंदी: संपर्क भाषा की एक जीवंत परम्परा व्यासमणि त्रिपाठी 99
वैश्वीकरण के दौर में हिंदी का स्वरूप मनोज पांडेय 104
सांस्कृतिक अस्मिता के संदर्भ में हिंदी के विविध रूप एल.सुनीता राय 107
हिंदी भाषी समाज में कोड परिवर्तन का रूप सुमेधा शुक्ला 116
भाषा और जन-विसर्जन लालसा लाल तरंग 121
हिंदी भाषा: वर्तमान परिदृश्य सुनीता रानी घोष 129
व्याकरण-विचार
विद्रूपित होती हिंदी वर्तनी लक्ष्मी नारायण शर्मा 137
स्थाननाम और संबंधित शास्त्र प्रियंका सिंह 151
साहित्य-चिंतन
काव्य-भाषा में अस्मिता की खोज आई.एन. चंद्रशेखर रेड्डी 158
साहित का स्वराज बनाम विचारों का उपनिवेश प्रकाश साव 167
इस अंक के रचनाकारों के पते 175
सदस्यता फार्म 177
अंतिम पृष्ठ अंतिम पृष्ठ
वैयक्तिक औज़ार

संस्करण
क्रियाएं
सुस्वागतम्
सहायता